Breaking

शुक्रवार, 10 जुलाई 2020

बीजेपी के मंत्री की फिसली जुबान- प्रधानमंत्री, यूपी-एमपी के मुख्यमंत्रियों को बताया देश के लिए कलंक


बीजेपी के मंत्री की फिसली जुबान- प्रधानमंत्री, यूपी-एमपी के मुख्यमंत्रियों को बताया देश के लिए कलंक

जी हां एक बार फिर से एक नेता जी की जुबान क्या फिसली...राजनीतिक गलियारों में हलचल मच गई....
रेट रटाये जुमले उस वक्त किसी राजनेता के गले की फांसी बन जाते है...जब नेता ने हाल ही में दल बदलकर नया खेमा चुना हो....
फिर क्या वर्षों से जुबान की कड़वाहट कभी न कभी जुबान पर आ ही जाती है। 
आखिर हो भी क्यों न...
इतने वर्षों से जिसको कोसने की प्रैक्टिस की हो...उसके गुणगान कब तक करें..
कभी न कभी तो जुबान पर सच आ ही जाता है.....

क्या है पूरा मामला....

इस बार यह घटना हाल ही कॉंग्रेस से बीजेपी में आये मंझे हुए खिलाड़ी और वरिष्ठ राजनीतिक हस्ती तुलसी सिलावट के हो गयी। इन्दौर से सांसद एवं मध्यप्रदेश सरकार में जल संसाधन मंत्री
 तुलसी सिलावट ने अपने एक बयान में पीएम मोदी, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और योगी आदित्यनाथ को देश के लिए कलंक बता दिया है। दरअसल मंत्री तुलसी सिलावट पत्रकारों से बात कर रहे थे। इस दौरान एक पत्रकार ने गैंगस्टर विकास दुबे के एनकाउंटर के बारे में सवाल किया।

जिस पर मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा कि “देश के प्रधानमंत्री, मध्य प्रदेश के ओजस्वी मुख्यमंत्री और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री, ऐसे लोग समाज के लिए कलंक हैं। सरकार की जिम्मेदारी है कि ऐसे लोगों का क्या करना है।”

तुलसी सिलावट अपने ओजपूर्ण वक्तव्य में यहीं नही रुके बल्कि उन्होंने  विकास दुबे के एनकाउंटर को समाज के लिए प्रेरक भी बता दिया। माना जा रहा है कि मंत्री जी की जुबान फिसली है और उसी के चलते उन्होंने यह बयान दिया है। मंत्री के बयान का यह वीडियो सोशल मीडिया पर काफी देखा जा रहा है।

बता दें कि तुलसी सिलावट इंदौर से सांसद हैं और एमपी सरकार में जल संसाधन मंत्री हैं। मंत्री जी ने जहां अपनी ही सरकार को कलंक बता दिया, वहीं गैंगस्टर विकास दुबे को जी कहकर भी संबोधित किया। हालांकि तुलसी सिलावट ने अब इस मामले पर सफाई देते हुए कहा है कि इस वीडियो को एडिट किया गया है और उन्होंने ऐसा करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की बात भी कही है।

बाद में सामने आई सफाई

सिलावट ने कहा कि बयान में शब्दों के आगे पीछे होने के कारण कांग्रेस ने साजिश के तहत इसे वायरल किया है। इसमें एडिटिंग कर वहीं हिस्सा जानबूझकर वायरल किया गया। जबकि मैंने दुबे के लिए कलंक शब्द का उपयोग किया था। उन्होंने ये भी कहा कि प्रधानमंत्री और हमारे दोनों मुख्यमंत्री विकास पुरुष हैं, सम्मानीय हैं और मेरे नेता हैं। उनका सम्मान हमेशा सर्वोपरि है।

बता दें कि गैंगस्टर विकास दुबे को पुलिस ने मध्य प्रदेश के उज्जैन स्थित महाकाल मंदिर परिसर से गिरफ्तार किया था। यहां से गिरफ्तार करने के बाद ही उसे पुलिस और एसटीएफ की टीम सड़क मार्ग द्वारा कानपुर लेकर जा रही थी। इसी दौरान रास्ते में पुलिस की गाड़ी पलट गई। तभी गाड़ी में सवार विकास दुबे ने फरार होने की कोशिश की और पुलिस कार्रवाई में मारा गया। हालांकि विकास दुबे के एनकाउंटर पर अब सवाल भी उठ रहे हैं।

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..

ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार