Breaking

बुधवार, 15 जुलाई 2020

प्राइवेट स्कूलों में नहीं चलेगा.. फीस का बहाना... अगर बच्चे की रुकी पढ़ाई... तो मान्यता होगी रद्द....

प्राइवेट स्कूलों में नहीं चलेगा..
फीस का बहाना...
अगर बच्चे की रुकी पढ़ाई...
तो मान्यता होगी रद्द....
कलेक्टर श्री यादव ने अशासकीय स्कूलों को दिया निर्देश

कलेक्टर भरत यादव ने जिले के सभी अशासकीय, सी.बी.एस.ई., आई.सी.एस.सी. स्कू्लों के प्रबंधकों, प्राचार्यों और प्रधानाचार्यों को निर्देशित किया है कि फीस जमा करने के लिये किसी भी अभिभावक पर दबाव न बनाया जाये। साथ ही फीस के अभाव में बच्चों  को ऑनलाइन पढ़ाई तथा शैक्षणिक सामग्री देने से वंचित न किया जाये।

बढ़ा-चढ़ा कर मनमानी फीस न ले.. शिक्षण संस्थान

कलेक्टर ने अशासकीय स्कूिलों के लिये जारी निर्देश में कहा है कि शासन द्वारा लॉकडाउन अवधि में मात्र शिक्षण शुल्क लिये जाने के निर्देश दिये हैं । किन्तु शिकायतें प्राप्त हो रही हैं , कि शिक्षण शुल्क‍ के अलावा भी फीस जोड़ कर शिक्षण शुल्क का नाम देकर फीस बढ़ाकर ली जा रही है। जो शासन के आदेश का उल्लंघन है।

प्री-प्रायमरी से कक्षा 5 तक ऑनलाईन पढ़ाई पूर्णतः प्रतिबंधित

 सभी अशासकीय स्कूलल ऑनलाइन कक्षाओं के संबंध में राज्य शिक्षा केन्द्र  भोपाल के द्वारा जारी निर्देशों का पालन किया जाना सुनिश्चित करें। जिसमें स्पष्ट‍ किया गया है कि प्री-प्रायमरी से लेकर कक्षा 5वीं तक की कक्षाओं में ऑनलाइन पढ़ाई पर पूर्णत: प्रतिबंध लगाया गया है। इसलिये इन कक्षाओं की ऑनलाइन क्लांस न लगाई जाये तथा न ही ऑनलाईन टेस्ट। लिये जायें। राज्य शासन द्वारा जारी आदेश में स्पष्ट किया गया है कि ऑनलाइन कक्षाओं की रिकार्डिंग विद्यार्थियों के लिये उपलब्ध करायी जायेगी जिससे की विद्यार्थी तथा अभिभावक अपनी सुविधानुसार उपयोग कर सके।

निर्देश न मानने वाले शिक्षण संस्थानों की होगी मान्यता रद्द...

निजी स्कूलों की मनमानी एवं अविभावकों की लगातार आ रही शिकायतों को ध्यान में रखते हुए।
कलेक्टर भरत यादव ने नि‍जी स्कूुलों को हिदायत दी है। कि वे सभी निर्देशों का पालन सुनिश्चित करें अन्यथा विद्यालय की मान्याता समाप्ति की कार्यवाही की जायेगी।

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..

ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार