Breaking

मंगलवार, 23 जून 2020

प्राचीन तालाबों में फिर लौटेगी..रौनक.. प्रशासकीय समिति का हुआ गठन

प्राचीन तालाबों में फिर लौटेगी..रौनक..
 प्रशासकीय समिति का हुआ गठन

राज्य शासन के पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के निर्देशानुसार प्राचीन तालाबों के जीर्णोद्धार एवं पुनर्जीवन के लिए कलेक्टर श्री वेद प्रकाश ने जिला स्तरीय प्राचीन तालाब पुनर्जीवन कार्यक्रम की प्रशासकीय समिति गठित की है। प्रशासकीय समिति के अध्यक्ष कलेक्टर, उपाध्यक्ष मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत एवं सदस्य सचिव कार्यपालन यंत्री जल संसाधन विभाग होंगे।
         प्रशासकीय समिति में परियोजना अधिकारी जिला शहरी विकास अभिकरण, अधीक्षण यंत्री नर्मदा घाटी विकास प्राधीकरण, उप संचालक किसान कल्याण एवं कृषि विकास, कार्यपालन यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी तथा ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, सहायक संचालक मत्स्य विभाग, परियोजना अधिकारी मनरेगा, जिला तकनीकी विशेषज्ञ जिला वाटरशेड सह डाटा सेंटर, सहायक भूजल विद, पर्यावरण विद डॉ. अनंत दुबे और समाज सेवी श्री हाकम सिंह चढ़ार सदस्य होंगे।
         जिले के प्राचीन तालाबों के चयन, जीर्णोद्धार एवं पुनर्जीवन के कार्य को कराने का दायित्व मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत का होगा। वे पटवारी रिकार्ड निस्तार पत्रक और बाजी बुल अर्ज के आधार पर पुराने तालाबों की सूची तैयार करेंगे। यह प्रशासकीय समिति समय- समय पर प्राचीन तालाब पुनर्जीवन कार्यक्रम की समीक्षा करेगी।

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..

ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार