बाल संप्रेक्षण गृह से भागे बच्चे... संयुक्त संचालक ने लगाई.... अधीक्षिका की क्लास.. - VIKAS KI KALAM,Breaking news jabalpur,news updates,hindi news,daily news,विकास,कलम,ख़बर,समाचार,blog

Breaking

बाल संप्रेक्षण गृह से भागे बच्चे... संयुक्त संचालक ने लगाई.... अधीक्षिका की क्लास..

बाल संप्रेक्षण गृह से भागे बच्चे..
संयुक्त संचालक ने लगाई...
अधीक्षिका की क्लास..

गोकलपुर बाल सुधार गृह से फिर एक बार बच्चे भागने में कामयाब  हुए है। दोनों ही बच्चे करीब 1 साल से बाल सुधार गृह में थे।फरार हुआ एक बच्चा मंडला जिले का रहने वाला है, जबकि दूसरा जबलपुर का है।
मंडला निवासी बच्चा रेप के मामले में बाल सुधार गृह में था जबकि दूसरा बच्चा छेड़खानी करने के चलते उसे बाल सुधार गृह में रखा गया था।

काम करते करते-उड़नछू हुए बच्चे

प्राप्त जानकारी के अनुसार जब बाल सुधार गृह का कर्मचारी दोनों बच्चों से बगीचे का काम करवाने के लिए उन्हें बाहर लाया था। तभी कर्मचारी को चकमा देकर दोनों बच्चे गेट कूदकर भाग गए। कर्मचारी ने करीब आधा किलोमीटर तक दोनों बच्चों का पीछा भी किया पर बच्चे उनके हाथ नहीं लगे।

मीडिया से बनाई दूरी-की अभद्रता

घटना की सूचना मिलने के बाद जब मीडिया कर्मी कवरेज करने बाल सुधार गृह पहुंचे, तो वहां पर पदस्थ अधीक्षका ने ना सिर्फ मीडिया कर्मियों को कवरेज करने से रोका, बल्कि उनसे अभद्रता भी की।

अक्सर विवादों में रही है...अधिक्षिका

बाल सुधार गृह में पदस्थ अधीक्षका सविता ऐड़े इससे पहले भी अपने कार्य को लेकर विवादों में रही है। तत्कालीन बाल सुधार गृह के अध्यक्ष मनीष मिश्रा ने जिसकी शिकायत संभाग कमिश्नर से भी थी।फिलहाल बाल सुधार गृह गोकलपुर में लगातार बच्चों के भागने के मामले सामने आ रहे हैं।बाल सुधार गृह अधीक्षका ने रांझी थाने में दोनों बच्चों के भागने की शिकायत की है जिसके बाद अब पुलिस और बाल सुधार गृह के कर्मचारी बच्चों को तलाश करने में जुटे हुए हैं।साथ ही दोनों बच्चों के परिजनों को भी सूचना दे दी गई है।

घटना का निरीक्षण करने पहुंचे संयुक्त संचालक

महिला एवं बाल विकास के संयुक्‍त संचालक एल.एन. कंडवाल ने आज बाल संप्रेक्षण गृह का निरीक्षण किया। निरीक्षण के समय सुश्री कविता ऐड़े अधीक्षिका अनुपस्थित पाई गई। संप्रेक्षण गृह से भागे बच्‍चों की घटना को समझने के लिये संयुक्‍त संचालक ने सी.सी.टी.व्‍ही. फुटेज का अवलोकन किया।

निरीक्षण में पाई गई लापरवाही

अवलोकन में स्‍पष्‍ट रूप से संप्रेक्षण गृह की अधीक्षिका एवं कार्यालय स्‍टाफ की लापरवाही दर्शित हुई। संयुक्‍त संचालक श्री कंडवाल द्वारा अधीक्षिका की कार्य प्रणाली एवं स्‍टाफ द्वारा की गयी लापरवाही पर असंतोष व्‍यक्‍त किया गया। सुश्री ऐड़े का कार्यालय स्‍टाफ पर कोई नियंत्रण नहीं होना परिलक्षित हुआ ।

अधिक्षिका को कारण बताओ नोटिस

महिला एवं बाल विकास के संयुक्‍त संचालक एल.एन. कंडवाल ने बाल संप्रेक्षण गृह से बच्चों के भाग जाने के मामले में गहन निरीक्षण करने के बाद ,
इस संबंध में सुश्री कविता ऐड़े को कारण बताओं सूचना पत्र जारी किया गया एवं उनके विरूद्ध अनुशासनात्‍मक कार्यवाही प्रस्‍तावित की जा रही है।

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..

ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।

विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार