जियो कोरोना फाइटर्स.. आपकी सतर्कता से टल गई अनहोनी.. बच्ची पहुंची परिजनों के पास - VIKAS KI KALAM,Breaking news jabalpur,news updates,hindi news,daily news,विकास,कलम,ख़बर,समाचार,blog

Breaking

जियो कोरोना फाइटर्स.. आपकी सतर्कता से टल गई अनहोनी.. बच्ची पहुंची परिजनों के पास

जियो कोरोना फाइटर्स..
आपकी सतर्कता से टल गई अनहोनी..

 बच्ची पहुंची परिजनों के पास।




नोट-उपरोक्त खबर में बच्ची का नाम पता एवं पहचान हमारे द्वारा गुप्त रखी गयी है।

जबलपुर में चौतरफा लॉक डाउन है। सड़कों पर इक्का-दुक्का ही दिखते है। ऐसे में एक छोटी बच्ची अपने घर से दूर एक सुलभ शौचालय के पास बिल्कुल अकेली मिलती है। उसी समय क्षेत्र के कोरोना फाईटर निलेश गुप्ता और भूरा ठाकुर की नज़र बच्ची पर पड़ती है। चूंकि बच्ची बिना मास्क और चप्पलों के थी लिहाजा कोरोना फाइटरों ने मदद के लिए बच्ची से पूछताछ की। और फिर निकटवर्ती थेन में सूचना देकर बच्ची को सकुशल उसके परिजनों तक पहुंचाया।

आखिर कैसे पहुंची बच्ची अकेले घर से दूर...

बात तो काफी हैरानी वाली है कि इतनी छोटी बच्ची अपने घर से इतने दूर कैसे पहुंच गई। और फिर वह सुलभ शौचालय में क्या कर रही थी।
मददगार कोरोना फाइटरों ने जब बच्ची से पूछताछ की तो बच्ची ने एक अलग ही कहानी कोरोना फाइटरों को सुनाई...
बच्ची के अनुसार उसे उसके घर के पास से किसी काले कपड़े पहने व्यकित ने मुह दबाकर अगवा किया। और घर से दूर ले आया। बजरंग कॉलोनी दुर्गा मंदिर गेट पहुचते ही बच्ची ने बाथरूम जाने की जिद की तो  वह अंजान शख्स बच्ची को सुलभ शौचालय के पास छोड़कर भाग गया।

कोरोना फाइटर्स ने निभाई जिम्मेदारी



बच्ची की कहानी सुनकर कोरोना फाइटर्स समझ गए कि जरूर दाल में कुछ काला है । उन्होंने सबसे पहले घबराई बच्ची को पास की ही एक दुकान में बिठाया और उसे पानी पिलाया वहीं उस दौरान उन्होंने पुलिस को इस पूरे घटना क्रम की जानकारी दी। और फिर दौनो  कोरोना फाइटर्स बच्ची को अपने साथ घमापुर थाने ले गए।

थाने पहुंचते ही खिला बच्ची का चेहरा




कोरोना फाइटर्स जैसे ही बच्ची को थाने लेकर पहुंचे वैसे ही बच्ची का चेहरा खुशी से खिल उठा। दरअसल थाने में 5 से 7 लोग पहले से ही मौजूद थे। जो शायद बच्ची की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराने ही पहुंचे थे। बच्ची ने भीड़ में जैसे ही अपने पापा को देख तो पहचान लिया। और दौड़कर अपने पापा के पास चली गयी। 

थाने ने नहीं की किसी बात की पुष्टि



खबर लगते ही विकास की कलम से संवाददाता गौरव सक्सेना घमापुर थेन पहुंचे। और एसआई राजरानी से घटना के सम्बंध में पूछताछ की।जांच अधिकारी ने हमे जानकारी देते हुए कहा कि बहरहाल प्रारंभिक पूछताछ में बच्ची के अगवा किये जाने की कोई पुस्टि नही हुई है। चूंकि बच्ची घबराई हुई थी लिहाजा उसे परिजनों के साथ घर भेज दिया गया। और आस पास के सीसीटीवी फुटेज भी खंगाले जा रहे है। बच्ची के सामान्य होने पर पुनः जानकारी लेने के बाद ही कोई पुख्ता जानकारी दी जा सकेगी।

विकास की कलम ने किया कोरोना फाइटर्स का धन्यवाद...

हो सकता है कि बच्ची ने घबराहट में कोई मनगढंत कहानी सुनाई हो । लेकिन इतनी छोटी बच्ची इतने पुख्ता ढंग से सुलभ शौचालय के स्टाफ और फिर बाद में कोरोना फाइटर्स को एक ही कहानी बिना अटके सुनाए तो.....बच्ची की बात मानना जरूरी हो जाता है।
बच्ची के साथ क्या घटना घटी ये तो जांच का विषय है लेकिन सबसे अहम बात तो यह है कि आज दो जांबाज कोरोना फाइटर्स की बदौलत बड़ी अनहोनी होने से बच गयी।

नोट-उपरोक्त खबर में बच्ची का नाम पता एवं पहचान हमारे द्वारा गुप्त रखी गयी है।

विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार