जे जबलपुर है जावेद..इंदौर थोड़ी... कुछ ही घंटों में सपड़ गओ..भगोड़ा.. - VIKAS KI KALAM,Breaking news jabalpur,news updates,hindi news,daily news,विकास,कलम,ख़बर,समाचार,blog

Breaking

जे जबलपुर है जावेद..इंदौर थोड़ी... कुछ ही घंटों में सपड़ गओ..भगोड़ा..

जे जबलपुर है जावेद..इंदौर थोड़ी...
कुछ ही घंटों में सपड़ गओ..भगोड़ा..



19 अप्रैल रविवार की दोपहर जबलपुर के नेताजी सुभाष चंद्र बोस मेडिकल कॉलेज में उस वक्त अफरा-तफरी मच गई जब यह सूचना मिली कि जावेद नाम का कोरोना पोजिटिव व्यक्ति मेडिकल कॉलेज से उपचार के दौरान फरार हो गया। घटना के तत्काल बाद ही मेडिकल कॉलेज प्रबंधन के अधिकारी और सुरक्षा में लगे कर्मचारियों ने जावेद की तलाश में पूरे मेडिकल कॉलेज को हिला कर रख दिया लेकिन कहीं पर भी जावेद का पता नहीं चला घटना की खबर लगते ही पुलिस विभाग के आला अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया। क्योंकि जावेद कोरोना संक्रमित था। लिहाजा यह डर था, कि उससे आम नागरिक भी संक्रमित ना हो जाए। इसलिए आनन-फानन में चौतरफा घेराबंदी  के आदेश भी जारी कर दिए गए और फिर देर रात भगोड़े जावेद के ऊपर इनाम भी घोषित कर दिया गया।

आखिर कौन है ? ये जावेद..??

इंदौर के टॉपपट्टी बाखल इलाके में महिला डॉक्टर सहित मेडिकल टीम पर पथराव करने की घटना तो आप सभी को बखूबी याद होगी। उसी प्रकरण में गिरफ्तार ऐसे चार कैदियों को जबलपुर भेजा गया है जावेद उन्ही कैदियों में से एक है। 
यह आरोपी जावेद पिता नासिर खान उम्र 30 वर्ष निवासी 436 बी, गली न. 10 चंदूवाला रोड़ थाना चंदन नगर जिला इंदौर का रहनेवाला है।
आपको बता दें कि जावेद खान इंदौर में स्वास्थ्य कर्मियों पर हमले में शामिल था। इसके बाद पुलिस ने उसे 9 अप्रैल को रासुका के तहत गिरफ्तार किया था। गिरफ्तारी के बाद उसे इंदौर से जबलपुर लाया गया था। 11 अप्रैल को पता चला कि वह कोरोना वायरस से संक्रमित है। इसके बाद उसे जबलपुर मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था।
जो कि दिनॉक 19-4-2020 को दोपहर में मेडिकल कालेज में उपचार के दौरान अभिरक्षा से भाग गया।

खबर ये भी- देश का मुखिया मांग रहा-सात वचन का साथ


जावेद की सुरक्षा में तैनात 4 आरक्षकों पर गिरी गाज..

 मेडिकल परिक्षण में कोरोना पॉजिटिव पाये जाने पर एन.एस.ए. बंदी जावेद को मेडिकल कालेज जबलपुर के आईसोलेशन वार्ड में उपचारार्थ भर्ती कराते हुये रक्षित केन्द्र में पदस्थ 
1-आरक्षक क्रमांक 2981 सूरज शर्मा,  
2- आरक्षक क्रमांक 2903 राहुल देवड़ा, 
3-आरक्षक क्रमांक 2886 मुकेश कुमार,
 4-आरक्षक क्रमांक 2920 अखिलेश

 की सुरक्षार्थ ड्यूटी लगायी गयी थी।
दिनॉक 19-4-2020 को दोपहर में मेडिकल कालेज में उपचारार्थ एन.एस.ए. बंदी जावेद अभिरक्षा से भाग गया, प्रथम दृष्टया एन.एस.ए. बंदी जावेद के भागने मे उपरोक्त आरक्षकों की घोर लापरवाही एवं त्रुटि पाये जाने पर पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री अमित सिंह  (भा.पु.से.) द्वारा उपरोक्त चारों आरक्षकों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर रक्षित केन्द्र जबलपुर सम्बद्ध किया  गया है।

पहले 10 हजार फिर बाद में 50 हजार किया इनाम घोषित

फरार एन.एस.ए. बंदी जावेद की गिरफ्तारी पर तत्काल पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री अमित सिंह  ने 10 हजार रूपये का ईनाम घोषित करते हुये, पुलिस महानिरीक्षक जबलपुर जोन जबलपुर को ईनाम की राशि बढाये जाने हेतु प्रतिवेदन भेजा गया।

पुलिस महानिरीक्षक जबलपुर जोन जबलपुर श्री भगवत सिंह चौहान (भा.पु.से.) द्वारा जावेद की गिरफ्तारी पर 25 हजार रूपये का ईनाम उद्घोषित करते हुये

 प्रकरण की गम्भीरता को दृष्टिगत रखते हुये पुलिस महानिदेशक (म.प्र.) महोदय श्री विवेक जौहरी ( भा.पु.से.) से ईनाम की राशि बढ़ाये जाने हेतु निवेदन किया गया।पुलिस महानिदेशक (म.प्र.) महोदय द्वारा फरार एन.एस.ए. बंदी जावेद की गिरफ्तारी पर 50, 000/-(पचास हजार रूपये ) का ईनाम उद्घोषित किया गया है। 

महज 15 घंटे में पकड़ा गया इनामी भगोड़ा..

जबलपुर से फरार आरोपी जावेद खान
नरसिंहपुर जिले के तेंदूखेड़ा स्थित मदनपुर  चेक पोस्ट पर पकड़ाया । वह इंदौर के पत्थरबाजों में से है एवं कोरोना वायरस का मरीज है ।जहां जावेद खान पकड़ा गया वह थाना तेंदूखेड़ा के अंतर्गत ग्राम मदनपुर है। जो कि रायसेन जिले की सीमा से लगा हुआ है और नरसिंहपुर जिले की लास्ट बॉर्डर है, मदनपुर चेक पोस्ट भोपाल हाईवे पर स्थित है । यहां पर कोटवार एवं पुलिसकर्मी पटवारी शासकीय कर्मचारियों की ड्यूटी तैनात थी।

कैसे पहुंचा जावेद- जबलपुर से मदनपुर चेकपोस्ट..

 जबलपुर मेडिकल कॉलेज से फरार इंदौर में मेडिकल टीम पर हमले का आरोपी  ,कोरोना पाजेटिव बंदी जाबेद खान नरसिंहपुर जिले सीमा के चेक पोस्ट पर पकड़ लिया गया। 




प्राप्त जानकारी के अनुसार नरसिंहपुर की अंतिम बॉर्डर सीमा मदनपुर चेक पोस्ट पर आने जाने वाले वाहनों  की सुबह जांच चल रही थी उसी दौरान एक संदिग्ध व्यक्ति मोटरसाइकिल से चेक पोस्ट पार करने का प्रयास कर रहा था । जिस पर चेक पोस्ट में तैनात अधिकारियों ने संदिग्ध से पूछताछ की पूछताछ के दौरान मोटरसाइकिल सवार ना तो गाड़ी के कागजात दिखा पाया और ना ही खुद का परिचय दे पाया।  जिस पर संदिग्ध पाए जाने पर आरोपी का गमछा अलग किया गया चुकी सभी जगह आरोपी की फोटो वायरल की जा चुकी थी ।

लिहाजा चेक पोस्ट पर तैनात अधिकारियों ने तत्काल उसे पहचान लिया और गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद जावेद ने मेडिकल कॉलेज से भागने का पूरा घटनाक्रम बताया जावेद के अनुसार सबसे पहले वह मेडिकल कॉलेज से भागकर बाईपास पहुंचा और फिर वहां से एक ट्रक में बैठकर राजमार्ग तक गया इसके बाद उसने वहीं कहीं से एक मोटरसाइकिल चुरा कर इंदौर जाने की तरकीब सोची, लेकिन मदनपुर चेकपोस्ट पर जांच के दौरान वह पकड़ा गया।

अब आई जान में जान...

कोरोना पॉजिटिव जावेद के मेडिकल कॉलेज से फरार हो जाने के बाद से ही जबलपुर शहर वासियों के बीच चर्चाओं का माहौल गर्म था। इस दौरान आशंका जताई जा रही थी कि यदि जावेद छुपते छुपाते शहर की ओर आता है तो फिर शहर की जनता को बड़ी संख्या में संक्रमित होने से कोई नहीं रोक पाएगा इस दौरान सोशल मीडिया में भी तरह-तरह की अफवाहें फैलने का दौर शुरू हो गया। इन सबके बीच जैसे ही आरोपी जावेद की मदनपुर चेकपोस्ट में पकड़े जाने की खबर आई लोगों ने चैन की सांस ली अब वह निश्चिंत हैं और उन्हें विश्वास है कि फिलहाल उन्हें आरोपी से फैलने वाले संक्रमण का कोई खतरा नहीं है।

विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
(लेखक विचारक पत्रकार)